hindi kavita

Friendship

यही तो शुरवात है अनजान होने की
आज आप busy हो जाओ
कल हम खों जाएंगे

बस यादें रेह जाएंगी
फिर number भी बदल जाएंगे

नादान ये दिल 💗

नादान सा जो दिल है
ये आज भी कुछ मांगता है
कहीं नीले आसमान के नीचे
खुद ही को क्यों धुंडता है

मिले सन्नाटे की ये पंक्तियां
जिसे कोन लिखता है

कभी कभी यूहीं ।।

कभी कभी तुम यूहीं
जिंदगी से बाते किया करो
क्या पता पुरानी यादों मै कहीं
अपनासा कोई मिल जाए

कभी यूहीं बैठे बैठे
दिल की धुन सुना करो

किताबों में

आखरी पन्ने पर वही
तुमसे मिलना जो था
इसी लिए तो सारी
किताब मैंने पढ़ी है

कहीं अकेला में था
कभीं यादों में तुम मेरे थे

Scroll Up