ध्येय

तु चाहे जितनी जिद कर
कुछ पाने की कोशिश कर
मिलता नसीब में लिखकर
ज्यादा मिला उसे बांटकर
कम मिला खुश होकर
जिना सीख कर्म कर