Skip to main content

Friendship

यही तो शुरवात है अनजान होने की
आज आप busy हो जाओ
कल हम खों जाएंगे

बस यादें रेह जाएंगी
फिर number भी बदल जाएंगे
और दोस्ती मै हम
Out of reach हो जाएंगे

बस यही तो शुरवात है
आज बाते ख़तम होने की
रूठे अब तो फिर ना मनानेकी
हम बुलाएं और आप ना आनेकी

है यहीं शुरुवात
रिश्तों के टूटने की
दोस्ती अपनी कहीं खोने की
और मिलकर भी न मिलने की

यहीं तो शुरुवात है।।

-योगेश खजानदार

Yogesh khajandar

लेखक

11 thoughts to “Friendship”

  1. Friendship, I believe, does not need constant communication for as long as the love is there and we keep the person in our heart. Your blog doesn’t show when I searched for your name. I was going to return the favor after you like my previous poem but I got nothing from the search.

  2. You are welcome…:-)
    and you can visit my blog too…;-),
    inspiringdude.wordpress.com if you find something intrusting then Don’t Forget to follow my Blog…:-)
    Keep in touch…:-)

Leave a Reply