सफर || SAFAR || HINDI POEMS ||

“हर रास्ता कुछ कहता है!!
तु बस सुनता जा!!
ये मंजिल तो आएगी एक दिन,
सफर तो यह करता जा!!

कभी एकेले चल रहा!!
कभी भीड में खो न जा!!
हर बस्तियों पे जश्न होगा,
कही तु उनमें बैठ न जा!!

वो मंजिल अभी दुर है!!
समय को भुल न जा!!
ये सफर पुरा करना है,
तु बस चलता जा!!

हर कोई सुन रहा है!!
तु बस कह ता जा!!
ये मंजिल तो आएगी एक दिन,
सफर तो यह करता जा!!”

-योगेश खजानदार