“समय से चलते कभी,
यादे बहोत आती है!!

किसीके जाने की कमी,
अहसास मुझे दिलाती है!!

आसुओं में दिखती जभी,
नींदे क्यु चुराती है!!

इंतज़ार की वो घडी,
अपना वक्त दिखाती है!!

तुही बता जानेवाले,
है तकलीफ ये,
कैसे सही जाती है!!”

-योगेश
Share This:
आणखी वाचा:  ध्येय || DHYEY || HINDI || SHORT POEMS ||